विषाणु क्या है संरचना और खोज

विषाणु क्या है

हेलो दोस्तों आपका स्वागत है आज हम जानेंगे की विषाणु क्या है 
और इसके प्रकार के बारे में, तो चाहिए जानते है ,
विषाणु छोटे आकार और सरल संरचना का संक्रामक एजेंट जो केवल जानवरों , पौधों या बैक्टीरिया की जीवित कोशिकाओं में गुणा कर सकता है । नाम एक लैटिन शब्द से आया है जिसका अर्थ है "घिनौना तरल" या "जहर।"

विषाणु क्या है संरचना और खोज

1892 में रूसी वैज्ञानिक द्वारा किए गए अध्ययनों से वायरस की जैविक प्रकृति के शुरुआती संकेत मिले दिमित्री आई। इवानोव्स्की और 1898 में डच वैज्ञानिक द्वारामार्टिनस डब्ल्यू बेजरिनक । Beijerinck ने पहले अनुमान लगाया कि अध्ययन के तहत वायरस एक नए प्रकार का थासंक्रामक एजेंट, जिसे उन्होंने कॉन्टैगियम विवम फ्लुइडम नामित किया , जिसका अर्थ है कि यह एक जीवित, प्रजनन करने वाला जीव था जो अन्य जीवों से भिन्न था। इन दोनों जांचकर्ताओं ने पाया कि तंबाकू के पौधों की एक बीमारी एक एजेंट द्वारा प्रेषित की जा सकती है, जिसे बाद में तंबाकू मोज़ेक वायरस , कहा जाता है।

विषाणु की संरचना

विषाणु छोटे बाध्यकारी इंट्रासेल्युलर परजीवी होते हैं, जिनमें परिभाषा के अनुसार या तो एक RNA या DNA जीनोम होता है जो एक सुरक्षात्मक, वायरस-कोडित प्रोटीन कोट से घिरा होता है।

विषाणु का आकर 

अधिकांश विषाणु व्यास में 20 नैनोमीटर (एनएम; 0.0000008 इंच) से 250-400 nm तक भिन्न होते हैं। सबसे बड़े विषाणु का व्यास लगभग 500 nm है और लंबाई लगभग 700-1000nm है।

विषाणु के महत्वपूर्ण तथ्य 

  • एक विषाणु एक सूक्ष्म संक्रामक एजेंट है, जो अन्य जीवों की जीवित कोशिकाओं में परजीवी के रूप में पाया जाता है।
  • विषाणु अन्य जीवों की जीवित कोशिकाओं के अंदर तेजी से प्रतिकृति बनाता है।
  • विषाणु एक लैटिन शब्द है जिसका अर्थ है 'जहर' और अन्य 'हानिकारक' तरल पदार्थ।
  • विषाणु जानवरों और पौधों से लेकर सूक्ष्मजीवों तक, बैक्टीरिया और आर्किया सहित किसी भी प्रकार के जीवन रूपों को संक्रमित कर सकते हैं।
  • विषाणुओं के अध्ययन को विषाणु विज्ञान कहते हैं।
  • विषाणु की खोज सबसे पहले 1892 में दिमित्री इवानोव्स्की ने की थी।
  • विषाणु में सजीव होने के साथ-साथ निर्जीव गुण भी होते हैं।
  • जीवित गुणों में से एक है - विषाणु में या तो डीएनए या आरएनए होता है (दोनों कभी नहीं)।
  • निर्जीव गुणों में से एक है - विषाणु में कोई प्रोटोप्लाज्म नहीं होता है।

विषाणु के प्रकार

परजीवी प्रकृति के आधार पर, विषाणु को निम्न रूप में वर्गीकृत किया जाता है

  • पशु वायरस
  • प्लांट वायरस
  • बैक्टीरियल वायरस
  • आर्कियल वायरस

मानव में विषाणु जनित रोग 

मानव में विषाणु से होने वाले रोगों की सूची निम्नलिखित है-

  • मानव इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस (एचआईवी / एड्स)
  • छोटी माता
  • चेचक
  • पोलियो
  • डेंगू ज्वर
  • हेपेटाइटिस
  • हिपैटाइटीरा या पीलिया या जौंडिस
  • हाइड्रोफोबिया या रेबीज़
  • मनिनजाईटिस (Meningitis)
  • ट्रेकोमा (Trachoma)
  • छोटी माता (Chicken Pox)
  • कण्ठमाला (खसरा और रूबेला)
  • गलसुआ (Mumps)
  • इन्फ्लुएंजा (या फ्लू)
  • हरपीज (त्वचा रोग)
  • दाद
  • आंत्रशोथ (पेट फ्लू)
  • निमोनिया

विषाणु से होने वाले रोग को याद करने का ट्रिक्स

ए चाचा इन्हें डांटो, 
खरे गाल पे छापो ना 

एक्सप्लनेशन

ए – एड्स
चाचा – चेचक
इ – इन्फ्लूएंजा
हें – हर्पीज
डा – डेंगू
टो – ट्रेकोमा
 – खसरा
रे – रेबीज
गाल – गलसुआ
पे – पीलिया
छा – छोटी माता
पो – पोलियो
ना - निमोनिया 
तो दोस्तों है ना  आसान

विषाणु जनित रोग  (Viral diseases):

1. एड्स (AIDS):

 एड्स (AIDS) 'एक्वायर्ड इम्यूनो-डिफिसीएन्सी सिंड्रोम' (Acquired Immuno-Deficiency Syndrome) का संक्षिप्त रूप है | यह इस रोग के विषाणु का नाम है - HIV - Human Immuno Deficiency Virus)| रोग यौन सम्बन्धो के कारण, रक्तधान में अनियमितता से और नशीले पदार्थों के अत्यधिक सेवन करने से फैलता है | इस रोग से ग्रसित रोगी का रोग प्रतिरोधक क्षमता समाप्त हो जाती है | रोगी का शरीर जगह-जगह फूल जाता है, खून का संचार अव्यवस्थित हो जाता है और अंतत: रोगी की मृत्यु हो जाती है |

उपचार:

सुरामीन, साइक्लोस्पोरीन, रिबावाईरीन, अल्फ़ा-इन्टरफेरान आदि दवाओं का प्रयोग इस रोग के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है | ए.जेड.टी. (Azidothymidine) दवाओं का भी प्रयोग किया जाता है जो एच. आई. वी. विषाणुओं की रिवर्स ट्रांसक्रिप्टेज क्रिया रोककर विषाणुओं को बहुगुणित होने से रोकती है |

2.चेचक (Small Pox):

यह एक अत्यंत संक्रामक रोग है जिसका संक्रमण एक अतिसूक्ष्म विषाणु के कारण होता है | इस रोग से ग्रसित रोगी को सर्वप्रथम सिर, पीठ, कमर और बाद में सारे शरीर में जोरों का दर्द होता है एवं बाद में लाल-लाल दाने निकल जाते हैं, जो बाद में फफोले का रूप धारण कर लेते हैं |

उपचार:

रोगी को तब तक अलग रखना चाहिए जब तक कि फोड़ों के सुरंड साफ़ न हो जाएं | घर या आस-पास के लोगों को चेचक का टीका ले लेना चाहिए |

3. इन्फ्ल्युएंजा (Influenza):

यह एक संक्रामक रोग है, जिसका संक्रमण 'इन्फ्लुएंजी' (Influenzae) नामक रोगाणु के कारण होता है | इसको 'फ्लू' (Flu) भी कहते हैं | इस रोग का आक्रमण होने पर सर और पूरे शरीर में जोरों का दर्द, सर्दी, खांसी तथा तेज ज्वर आदि लक्षण प्रकट होते हैं | यह कभी-कभी महामारी का रूप भी ले लेता है |

उपचार:

रोगी को 'टेरामाईसीन, टेट्रासाईक्लीन' आदि एंटीबायोटिक्स लेनी चाहिए | रोगी का पेट साफ़ रखना चाहिए | पोटेशियम परमैंगनेट के घोल से सुबह-शाम गरारा करना चाहिए |

4. पोलियो (Poliomyelities):

यह रोग निस्यन्दी विषाणु (Filterable virus) के कारण होता है | इस रोग का प्रभाव केन्द्रीय नाड़ी संस्थान पर होता है, तथा रीढ़ की हड्डी और आंत की कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं | यह प्राय: बच्चों को होता है | शरीर इससे बचने के लिए रोग-प्रतिकारक पदार्थ का निर्माण करने लगता है, जिससे विषाणु मर जाते हैं और रोगी पूर्णत: ठीक हो जाता है |

उपचार:

इस रोग से बचाव के लिए बच्चों को पोलियो निरोधी बैक्सीन दिया जाता है | 'साक टीके' (Salk vaccine) जो की 'साक' (Salk) ने ही खोजी थी इंजेक्शन के द्वारा दी जाती है | 'एल्बर्ट सेबिन' ने 1957 में मुख से लेने वाली 'पोलियो ड्रॉप' की खोज करके प्रतिरक्षण की और आसान बना दिया |

5. डेंगू ज्वर (Dengue fever or Break bone fever):

 यह रोग विषाणु के कारण होता है | इस रोग को 'इडिस इजिप्टी, इडिस एल्बोपिक्टस' और 'क्युलेक्स फटीगन्सस'  नामक मच्छर संचारित करते हैं | इस रोग में अचानक तेज ज्वर आ जाता है, चेहरा पर पित्तियाँ निकल आती हैं तथा सिर, आँखे, पेशियों और जोड़ों में बहुत जोरों का दर्द होता है | यह महामारी के रूप में अचानक फैलता है | इस रोग को 'हड्डी तोड़ बुखार' भी कहते हैं |

6. हिपैटाइटीरा या पीलिया या जौंडिस (Jaundice):

यह एक यकृत रोग है, जिसमें रक्त में पित्त वर्णक (Bile pigment) अधिक मात्रा में चला आता है | इसमें यकृत में पित्त वर्णक का निम्न अधिक मात्रा में होने लगता है, परन्तु यकृत की कोशिकाएं इसका उत्सर्जन निम्न मात्रा में करती है | फलत: पित्त वर्णक यकृत-शिरा के माध्यम से रक्त में प्रवेश कर जाता है | पेशाब भी पीला हो जाता है | खून में पित्त (Bile) बढ़ जाता है |

उपचार:

इस रोग से बचने के लिए ठंडक से बचना चाहिए | हल्का परन्तु पौष्टिक आहारग्रहण करना चाहिए | रोगी को तब तक आराम करना चाहिए, जब तक सीरम में 'विलीरूबीन' (Bilirubin) की मात्रा 1.5 मिलीग्राम प्रति 100 मिलीलीटर नहीं हो जाता है |

7.हाइड्रोफोबिया या रेबीज़ (Hydrophobia or Rabies):

यह एक संघातिक रोग है जिसका संक्रमण केन्द्रीय तंत्रिका तन्त्र में होता है | इसका संक्रमण पागल कुत्ते, भेड़िये, लोमड़ी आदि के काटने से होता है, क्योंकि यह रोग सर्वप्रथम इन्ही जन्तुओं में होता है | इनके काटने से रोग के विषाणु शरीर में प्रवेश कर जाते है और समुचित समय पर चिकित्सा न की जाने पर केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करते हैं | यह रोग दो रूपों में दिखने को मिलता है | एक में उत्तेजना होती है, जल से भय उत्पन्न होता है  और रोगी की आवाज कुत्ते के भौंकने जैसी निकलती है | दूसरे में रोगी को पक्षाघात (Paralysis), तेज ज्वर और भयंकर सिरदर्द होता है तथा वमन (Vomitimg) करने की प्रवृति और बेचैनी महसूस होती है 

उपचार:

रेबीजरोधी (Antirabies) टीका लगवाना चाहिए | इस टीके की खोज 'लूई पाश्चर' ने किया था | घाव को शुद्ध कार्वोलिक या नाइट्रिक एसिड से धो देना चाहिए |

8. मनिनजाईटिस (Meningitis):

इस रोग में मस्तिष्क प्रभावित होता है | इस रोग में रोगी को तेज बुखार आता है तथा बाद में बेहोशी भी होने लगती है | मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु के उपर चढ़ी झिल्ली के नीचे रहने वाले द्रव सेरिब्रो स्पाईनल द्रव के संक्रमण होता है | इस रोग से बचने के लिए मनिनजाईटिस रोधी टीका लगवाना चाहिए |

9. ट्रेकोमा (Trachoma):

यह आँख की कार्निया का सांसर्गिक रोग है | इससे कॉर्निया में वृद्धि हो जाती है जिससे रोगी निद्राग्रस्त सा लगता है | इस रोग से बचने के लिए पेनीसीलीन, क्लोरोमाईसीटीन आदि का प्रयोग करना चाहिए |

10. छोटी माता (Chicken Pox):

यह रोग भी चेचक की तरह बहुत ही संक्रामक होता है | इसमें हल्का बुखार होता है तथा शरीर पर पित्तीकायें निकल जाती है जो बाद में जलस्फोटों में बदल जाती है | इस रोग से बचने के लिए चेचक के टीके लगवाना चाहिए तथा सफाई पर ध्यान देना चाहिए |

11. खसरा (Measles):

इस रोग का कारक 'मोर्बेली विषाणु' (Morbeli virus) है | इस रोग में सम्पूर्ण शरीर प्रभावित होता है | यह वायु वाहित रोग है | इस रोग के विषाणु नाक से स्राव द्वारा फैलते हैं | इस रोग के आरंभ में नाक व आँख से पानी बहता है, शरीर में दर्द रहता है तथा ज्वर आदि लक्षण प्रकट होते है | 3-4 दिन बाद शरीर पर लाल दाने हो जाते हैं | इसके उपचार के लिए रोगी को आराम करना चाहिए और हल्का भोजन तथा उबला पानी पीना चाहिए |

12. गलसुआ (Mumps):

इस रोग का कारक 'मम्पस वाइरस' (Mumps virus) है | इस रोग में लार ग्रन्थि प्रभावित होता है | इस रोग के विषाणु का प्रसार रोग की लार से होता है | प्रारंभ में झुरझुरी, सिरदर्द तथा कमजोरी महसूस होती है | एक-दो दिन बुखार रहने के बाद कर्ण के नीचे स्थित पैरोटिक ग्रन्थि (Parotid gland) में सूजन आ जाती है | इसके उपचार के लिए नमक के पानी की सिकाई तथा 'टेरामाईसीन' के इंजेक्शन लगवाने चाहिए |

पौधों में विषाणु जनित रोग 

पौधों में विषाणु से होने वाले रोगों की सूची निम्नलिखित है-

  • मूंगफली - स्टंट वायरस
  • मक्का - मोज़ेक वायरस
  • सलाद पत्ता - मोज़ेक वायरस
  • फूलगोभी - मोज़ेक वायरस
  • गन्ना - मोज़ेक वायरस
  • खीरा - मोज़ेक वायरस
  • तंबाकू - मोज़ेक वायरस
  • टमाटर - मुड़ पत्ती रोग
  • भिंडी - पीली शिरा मोज़ेक 

पशुओं में विषाणु जनित रोग 

जानवरों में विषाणु के कारण होने वाले रोगों की सूची निम्नलिखित है 

  • गाय - हरपीज (हरपीज वायरस)
  • भैंस - चेचक (पॉक्सवेर्डी ऑर्थोपॉक्स)
  • कुत्ता - रेबीज (स्टीराइट वायरस)
उम्मीद करता हूँ की विषाणु क्या है आप को अच्छे से समझ में आ गया होगा यदि फिर भी विषाणु से सम्बंधित कोई प्रश्न हो तो हमें कमेंट कर पूछ सकते है धन्यवाद।

Previous
Next Post »