कार्य किसे कहते है (what is work )


कार्य किसे कहते है

आज हम लोग समझेंगे कि कार्य किसे कहते है कार्य क्या होता है और इसका मात्रक क्या होता है इसको हमने साधारण तरीके से समझने का प्रयास किया है यदि आप लोग इसे समझने का प्रयास कर रहे है तो आप को यह अच्छे से समझ में आ जायेगा. तो चलिए सुरु करते है.

कार्य कि परिभाषा 

जब किसी वस्तु पर कोई बल लगाकर उसकी स्तिति में परिवर्तन किया जाता है तो कहा जाता कि उस वस्तु पर कार्य किया गया. यदि बल लगाए जाने से कोई वस्तु अपने स्थान से नहीं हटती तो उस अवस्था में कोई कार्य नहीं होता. जैसे किसी दिवार कोई धक्का देना.
किये गये कार्य कि मैप वस्तु पर आरोपित बल तथा बल कि दिशा में वस्तु के विस्थापन के गुणनफल के बराबर होती है.
कार्य = बल × बल कि दिशा में वस्तु का विस्थापन
W=F×S cosθ

 कार्य का मात्रक

न्यूटन - मीटर
CGS पद्धति में इसका मात्रक अर्ग होता है
MKS पद्धति में कार्य का मात्रक जुल होता है
यदि किसी कारक के द्वारा किसी भी वस्तु पर एक न्यूटन बल लगाने पर वस्तु का बल कि दिशा में विस्थापन एक मीटर हो तो ऐसी स्थिति में कारक द्वारा किया गया कार्य एक जुल अथवा एक न्यूटन मीटर कहलाता है.
1जुल =1 न्यूटन ×1 मीटर
1वाट =1जुल /सेकण्ड
1किलोवाट =1000 वाट
1मेगावाट =1000000 वाट
1अस्व शक्ति =746 वाट
1जुल =10000000 अर्ग
उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों को कार्य किसे कहते है अच्छे से समझ में आया होगा. यदि फिर भी कोई प्रशन हो तो आप हमें  कमेंट करके पूछ सकते है धन्यवाद !
अन्य जानकारी 

Previous
Next Post »