चुम्‍बक क्‍या है।प्रकार।उपयोग।और यह कितने प्रकार की होती है

चुम्‍बक क्‍या है।प्रकार।उपयोग।और यह कितने प्रकार की होती है

चुम्‍बक क्‍या है? 

वह पदार्थ जिसमे लौह, लौह चूर्ण या चुम्बकीय पदार्थों को अपनी ओर आकर्षित करने का गुण हो उसे चुम्बक कहते हैं।

चुम्बकीय बल रेखाएं
click to collapse contents

वह रास्ता जिस हर एक यूनिट नार्थ पोल चल सके अगर उसको स्वतन्त्र रूप से चुम्बकीय क्षेत्र में चलने दिया जाय, चुम्बकीय बल रेखा कहलाती है।
चुम्‍बक क्‍या है।प्रकार।उपयोग।और यह कितने प्रकार की होती है

चुम्बकीय बल रेखाओं की विशेषताए
click to collapse contents

1. चुम्बकीय बल रेखाएं उत्तर से निकलती हैं और दक्षिण की और जाती हैं।
2. चुम्बकीय बाल रेखाओं के लिए कोई भी पूर्ण कुचालक नहीं है।
3. चुम्बकीय बाल रेखाएं एक दूसरे को कभी नही काटती हैं।
4. वह छोटे से छोटा रास्ता अपनाने की कोशिश करती हैं।

चुम्बकीय आकर्षण
click to collapse contents

यदि दो विपरीत ध्रुव एक दूसरे के निकट लाये जाये तो उनमे एक बल का अनुभव होता है और दोनों ध्रुव एक दूसरे के निकट आते हैं इसी को चुम्बकीय आकर्षण कहते हैं।

चुम्बकीय क्षेत्र
click to collapse contents

किसी चुम्बक के आस-पास के क्षेत्र में जहां तक चुम्बकीय बल रेखाएं हो और उनके प्रभावों को महसूस किया जा सकता हो, चुम्बकीय क्षेत्र कहते हैं।

चुम्बकीय फ्लक्स
click to collapse contents

चुम्बक के चारो ओर बल रेखाओं की कुल संख्या चुम्बकीय फ्लक्स कहलाती हैं।

चुम्बक के कितने ध्रुव होते है? 
चुम्बकीय ध्रुव
click to collapse contents

चुम्बक के दो सिरे जहां की चुम्बकीय क्षेत्र सर्वाधिक होता है चुम्बकीय ध्रुव कहलाते हैं।

             चुंबक कितने प्रकार के होते हैं? 

चुम्बक दो प्रकार के होते हैं. 

1.लोहचुम्बकीय पदार्थ
click to collapse contents

निकिल, कोबाल्ट, लोहा तथा स्टील और कई प्रकार के मिश्रित धातुओं के पदार्थ जो चुम्बक के प्रति बहुत ज़्यादा आकर्षित होते हैं। इन पदार्थो को लोहचुम्बकीय पदार्थ कहा जाता है। इन लौहचुम्बकीय पदार्थो को चुम्बक बनाने में अधिक काम में लाया जाता है क्योंकि इन पदार्थो में शक्ति की चुम्बकीय रेखायें आसानी से आर पार नहीं होती हैं। इन पदार्थो के लिये एक निर्धारित तापमान होता है इस तापमान को क्यूरी तापमान कहते हैं। यदि इससे ऊपर तापमान इन पदार्थो में दिया जाये तो ये पदार्थ अपना चुम्बकीय आकर्षण शक्ति खो देते हैं और पराचुम्बकीय चुम्बक बन जाते हैं।

2.प्रतिचुम्बकीय पदार्थ
click to collapse contents

एन्टिमोनी, विस्मथ तथा जिंक जैसे पदार्थ चुम्बक से बहुत जल्दी पृथक हो जाते है तथा ऐसे पदार्थ जो चुम्बक के पास लाया जाये तो वे अपने आप को अक्ष बनाकर ध्रुव के साथ सीधे खडे़ हो जाते है ऐसे पदार्थो को प्रतिचुम्बकीय पदार्थ कहा जाता हैं।

3.पराचुम्बकीय पदार्थ
click to collapse contents

पैलेडियम, मैंगनीज तथा प्लैटीनम जैसे पदार्थ चुम्बकों द्वारा स्वतन्त्र रूप से आकर्षित होते हैं, जब इन पदार्थो को चुम्बक के पास लाया जाता है तो ये पदार्थ अपने आप को लम्बें अक्षों के सहारे ध्रुव के स्थिर खडे़ हो जाते हैं ऐसे पदार्थो को पराचुम्बकीय पदार्थ कहा जाता हैं।

All type tricky math in hindi- मैथ की सारी ट्रिक हिंदी में ,


Previous
Next Post »